ग्रेजुएशन के बाद क्या करे सरकारी कोर्स की पूरी जानकारी

Graduation Ke Baad Kya Kare : अधिकतर विद्यार्थी ग्रेजुएशन पास करने के बाद यह सोचते हैं कि अब उनको आगे कौन सा ऐसा कोर्स करना चाहिए जिस कोर्स को करने के बाद उनके नौकरी आसानी से लग सके क्योंकि कई बार युवा वर्ग जब ग्रेजुएशन कर लेते हैं उसके बाद उन्हें करियर में आगे बढ़ने की संभावना कम नजर आने लगती है और इस वजह से वह हताश और परेशान हो जाते हैं| इसलिए अधिकतर विद्यार्थियों का यही सवाल होता है कि Graduation Ke Baad Kya Kare यदि आपके मन में भी यह सवाल उठता है और आप भी जानना चाहते हैं कि आप ऐसा कौन सा कोर्स करें जिसको करने के बाद आप आसानी से कोई नौकरी कर सके तो आज के आर्टिकल में हम आपको ग्रेजुएशन के बाद क्या करें के बहुत से सुझाव बताएंगे इसलिए हमारे आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें|

Graduation Kya Hai

ग्रेजुएशन (Graduation) एक शिक्षात्मक पदार्थ है जिसे किसी शैक्षणिक पाठ्यक्रम की सफलतापूर्वक पूरी करने के बाद प्राप्त किया जाता है। इसका मतलब होता है कि एक छात्र या छात्रा ने अपनी विद्यालयिक या महाविद्यालयिक शिक्षा की सफलतापूर्वक पूरी की है और उसके बाद अपनी उच्चतर शिक्षा या व्यावसायिक पढ़ाई की ओर आगे बढ़ने के लिए तैयार है।

ग्रेजुएशन का स्तर विभिन्न देशों और शैक्षणिक प्रणालियों के अनुसार अलग-अलग हो सकता है। यह अक्सर तीन वर्षीय या चार वर्षीय होता है, लेकिन कुछ विषयों में इसकी अवधि और मान्यता विशेष हो सकती है। उदाहरण के लिए, कई देशों में ग्रेजुएशन एक तीन वर्षीय डिग्री होती है, जबकि अन्य देशों में चार वर्षीय होती है।

ग्रेजुएशन कई विषयों और कोर्सों में उपलब्ध होती है, जैसे कि कला, वाणिज्य, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, संगणक विज्ञान, औद्योगिक तकनीक, औद्योगिक निर्माण, मनोविज्ञान, साहित्यिक अध्ययन, इतिहास, भूगोल, गणित, विज्ञान, आदि।

यह एक महत्वपूर्ण शिक्षा पदार्थ है, क्योंकि इसे पूरा करने से छात्र या छात्रा को उच्चतर शिक्षा, नौकरी और करियर में आगे बढ़ने के लिए अधिकार प्राप्त होता है। इसके बाद छात्र अपनी रुचियों, क्षमताओं और लक्ष्यों के अनुसार मास्टर्स डिग्री, डिप्लोमा, पीएचडी आदि के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

ये भी पढ़ेप्राइमरी स्कूल के टीचर कैसे बने
ये भी पढ़ेACP Kaise Bane

Graduation Ke Baad Kya Kare

ग्रेजुएशन के बाद, आपके पास कई विकल्प हो सकते हैं, इनमें से कुछ आपकी प्राथमिकता और आपके इंटरेस्ट पर निर्भर करेंगे। यहां कुछ सामान्य विचारों को देखते हुए कुछ सुझाव दिए जा सकते हैं:



  • मास्टर्स की पढ़ाई: अगर आपके पास विशेषज्ञता या विशेषज्ञता क्षेत्र में आगे बढ़ने की इच्छा है, तो मास्टर्स की पढ़ाई करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इससे आपकी ज्ञान और कौशल में वृद्धि होगी और आपको उच्चतर स्तर की नौकरी या करियर के मौके मिल सकते हैं।
  • सरकारी नौकरी: अगर आपको सरकारी सेक्टर में रुचि है तो आप सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए विभिन्न सरकारी परीक्षाओं और योग्यता परीक्षाओं की तैयारी करनी होगी।
  • नौकरी: अगर आप अभिनवता और अनुभव प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप अपने क्षेत्र में नौकरी ढूंढ सकते हैं। अपने क्षेत्र के लिए नौकरी ढूंढने के लिए वेबसाइट, नौकरी संस्थान, रोजगार मेले और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों का उपयोग कर सकते हैं।
  • उद्यमिता: यदि आपके पास उद्यमिता और व्यवसायिक सोच है, तो आप अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने व्यापार आइडिया का विश्लेषण करना, व्यापार योजना तैयार करना और आपूर्ति श्रृंखला, विपणन और वित्तीय पहलुओं को विचार में रखकर व्यवसाय की शुरुआत करनी होगी।
  • स्वयंसेवी कार्य: आप स्वयंसेवी कार्यों में शामिल हो सकते हैं, जैसे कि गैरसरकारी संगठनों या गैरलाभकारी संगठनों में सेवा करना, जहां आप अपने कौशल और ज्ञान का उपयोग कर सकते हैं।

यह सिर्फ कुछ विचार हैं और आपके लिए विशेष परिस्थितियों पर निर्भर करेंगे। आपको अपने इंटरेस्ट, क्षमता और लक्ष्यों के आधार पर अपना विकल्प चुनना चाहिए। यह आपके भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है कि आप उस क्षेत्र में काम करें जिसमें आपको संतुष्टि और सम्मान मिलेगा।

पायलट (Pilot) कैसे बनेपीजीडीएम कोर्स क्या हैD Pharma Kya Hai

ग्रेजुएशन के बाद किए जाने वाले कोर्स

कुछ विद्यार्थी ऐसे होते हैं जो ग्रेजुएशन के बाद कोई कोर्स करना चाहते हैं जैसे मैं अपनी पढ़ाई को जारी रख सके और भविष्य में कुछ अच्छे कार्य कर सकें ऐसे में हम उन विद्यार्थियों के लिए ग्रेजुएशन के बाद होने वाले विभिन्न कोर्स के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे

एमएससी (MSC)

यदि आपने BSC से ग्रेजुएशन किया है और आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं तो इसके लिए एमएससी एक बेहतर विकल्प है यदि आपने विज्ञान में ग्रेजुएशन किया हो ऐसी स्थिति में ही आप अपने सी का कोर्स कर सकते हैं जो कि 2 वर्षीय होता है जिसे आप किसी भी विश्वविद्यालय से कर सकते हैं यदि आपने ग्रेजुएशन में 50% अंक हासिल किए हैं तभी आप हमें से कोर्स कर सकते हैं एमएससी को मास्टर ऑफ साइंस भी कहा जाता है|

एम ए (MA)

यदि आपने अपना ग्रेजुएशन बीए के साथ पूरा किया है तो फिर आप m.a. का कोर्स कर सकते हैं जिसे मुख्य रूप से मास्टर ऑफ आर्ट्स कहा जाता है यह वर्ष भी 2 वर्ष का होता है यदि आप तैयार होना तो समाचार राजनीति शास्त्र इतिहास मनोविज्ञान में अंदर रहते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद साबित होगा जिसके माध्यम से आप एग्री भी प्राप्त कर सकते हैं

B.ed

यदि आप अपने भविष्य में टीचर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आदमी डेरेशन के बाद b.ed करना होगा यदि आप रिपीट करते हैं तो इसके माध्यम से आप एक अच्छी नौकरी हासिल करने के काबिल हो जाते हैं इसके अलावा b.ed का पूरा नाम बैचलर ऑफ एजुकेशन हैं जो शिक्षा के लिए जरूरी माना गया है

M. Pharma

यह एक ऐसा विषय है जिसमें करने के बाद आपकी किसी भी प्राइवेट मेडिकल कंपनी में आसानी से नौकरी लग सकती है फार्मेसी मुख्य रूप से 2 वर्षों का होता है जिसे बी फार्मेसी करने के बाद किया जाता है ऐसे में यदि आप एम फार्मेसी करना चाहते हैं तो आपको ग्रेजुएशन बी फार्मेसी से ही पास करना होगा

MBA

वर्तमान समय में यदि आप अच्छी नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं तो ग्रेजुएशन के बाद एमबीए का कोर्स करना बहुत ही लाभदायक होता है एमबी का फुल फॉर्म मास्टर आफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है जिसे आप किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय महाविद्यालय से प्राप्त कर सकते हैं यदि आप एमबीए करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ग्रेजुएशन में कम से कम 60% अंक लाना अनिवार्य है

M. Arch

यदि आप भविष्य में बुनियादी जरूरतों को पूरी रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ग्रेजुएशन के बाद एमआर करना होगा इसका मतलब मास्टर ऑफ आर्किटेक्चर होता है लेकिन एक बार ध्यान रखें कि यदि आपने बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर किया है तभी आप मास्टर ऑफ आर्किटेक्चर कर सकते हैं यह भी 2 वर्षीय कोर्स होता है जिसे आप किसी भी आर्किटेक्ट कॉलेज से आसानी से कर सकते हैं

ये भी पढ़े – IIT Kya Hai 
ये भी पढ़ेन्यूज़ रिपोर्टर कैसे बने

ग्रेजुएशन के बाद सरकारी नौकरियां के विकल्प

ग्रेजुएशन के बाद सरकारी नौकरियां कई विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्ध होती हैं। आपकी ग्रेजुएशन डिग्री के क्षेत्र पर निर्भर करेगी कि आपके लिए कौन सी सरकारी नौकरी के विकल्प उपलब्ध हो सकते हैं। यहां कुछ सरकारी नौकरियां के उदाहरण दिए जाते हैं:

  • लोक सेवा आयोग (Public Service Commission): राज्य सरकारों और केंद्रीय सरकार के लिए लोक सेवा आयोग अधिकारियों की भर्ती करता है। इसमें आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS), आईएफएस (IFS) और अन्य संघ सेवाओं के पद शामिल होते हैं।
  • बैंक नौकरियां: भारतीय बैंकों में कई सरकारी नौकरियां उपलब्ध होती हैं। प्रमुख बैंकों में बैंक परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं और सफल उम्मीदवारों को क्लर्क, पीओ (Probationary Officer), स्पेशलिस्ट ऑफिसर आदि के पदों पर नियुक्ति मिलती है।
  • रेलवे नौकरियां: भारतीय रेलवे में विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरियां उपलब्ध होती हैं। इसमें लोको पायलट, टिकट कलेक्टर, ग्रुप डी कर्मचारी, इंजीनियर आदि शामिल होते हैं।
  • शिक्षा विभाग: शिक्षा विभागों में शिक्षक, प्राचार्य, प्रधानाचार्य, विद्यालय निरीक्षक आदि के पदों पर सरकारी नौकरियां मिलती हैं।
  • बिजली विभाग: बिजली विभाग में अभियंता, तकनीशियन, लाइनमैन, सहायक इंजीनियर आदि के पदों पर सरकारी नौकरियां उपलब्ध होती हैं।
  • रक्षा नौकरियां: भारतीय सेना, नौसेना, वायुसेना और पुलिस विभागों में भी सरकारी नौकरियां उपलब्ध होती हैं। इसमें कमांडो, जवान, ऑफिसर, विमान चालक आदि के पद शामिल होते हैं।

ये केवल कुछ उदाहरण हैं और आपकी ग्रेजुएशन के क्षेत्र के आधार पर अन्य क्षेत्रों में भी सरकारी नौकरियां उपलब्ध हो सकती हैं। आपको अधिक जानकारी के लिए संबंधित सरकारी नौकरी वेबसाइट और रोजगार समाचार पत्र का संपर्क करना चाहिए।

Internship Kya Hota HaiParamedical Kya HaiShort Term Course Kya Hai 

ग्रेजुएशन के बाद से प्रोफेशनल कोर्सेज

  • PG Diploma in Management (PGDM)
  • MBA (Masters in Business Administration)
  • MTech
  • PGD in Hotel Management
  • PGPM
  • Certification in Finance and Accounting (CFA)
  • Project Management
  • PG Diploma in Digital Marketing or Business Analytics
  • Business Accounting and Taxation [BAT Course]
  • Masters in Data Science or Machine Learning

ग्रेजुएशन के बाद शॉर्ट टर्म डिप्लोमा कोर्सेज

  • Diploma in Bakery and Confectionery
  • Diploma in Visual Merchandising
  • Diploma in Food and Beverage Services
  • Diploma in Airline, Travel and Tourism Management
  • Diploma in Gemology
  • Diploma in Photography
  • Diploma in Nutrition and Dietetics
  • Diploma in Airline, Travel and Tourism Management
  • Diploma in Construction Management
  • Diploma in Medical Laboratory Technology (DMLT)
  • Diploma in Hotel Management (DHM)
  • Diploma in Rural Healthcare
  • Diploma in Nursing Care Assistant (DNCA)
  • Diploma in Scriptwriting/Creative Writing
  • Diploma in Communicative
  • Certificate in Digital Marketing
  • Certificate in Home Health Aide
  • Certificate in Photography
  • Certificate in General Duty Assistant
  • Certificate in X-Ray Technician

आर्ट्स में ग्रेजुएशन के बाद कोर्सेज

  • Master of Business Administration (MBA)
  • Master of Arts (MA) or Master of Fine Arts (MFA)
  • PG Diploma/Masters in Journalism and Communication
  • Bachelor of Education (BEd)
  • Bachelor of Library Science
  • Masters/PG Diploma in Digital Marketing
  • LLB
  • Foreign Language Courses
  • PG Diploma in Management (PGDM)
  • PG Diploma in Business Analytics (PGDBA)
  • PG Diploma in Digital Marketing
  • PGDEMA

साइंस में ग्रेजुएशन के बाद कोर्सेज

  • Master of Science (MS/MSc)
  • Master of Technology (MTech)/Master of Engineering (MEng)
  • Master of Computer Applications (MCA)
  • Masters in Computer Science
  • PG Diploma in Business Analytics
  • Paramedical Courses
  • PG Diploma in Hospital Management/Hospital Administration
  • MBA (Master of Business Administration)
  • Financial Engineering Courses
  • Mobile App Development Courses
  • Robotics Engineering Courses

कॉमर्स में ग्रेजुएशन के बाद कोर्सेज

  • Chartered Accountancy (CA)
  • M.Com
  • MBA
  • MCA
  • PGDCA (Post Graduate Diploma in Computer Applications)
  • Chartered Financial Analyst (CFA)
  • Business Accounting and Taxation (BAT)
  • Tally Course
  • Masters in Digital Marketing
  • PGDM in Finance
  • PGDEMA
  • Certificate in E-commerce
  • Certificate in Banking
  • Certificate in Accounting

FAQ‘s – Graduation Ke Baad Kya Kare

ग्रेजुएशन करने का क्या फायदा है?

ग्रेजुएशन किए हुए विद्यार्थी के पास अधिक नौकरियां पाने के अवसर होते हैं क्योंकि उनके पास देख लो डिग्री आ जाती है|

ग्रेजुएट कितने वर्ष की होती है?

ग्रेजुएट 3 से 5 वर्ष की हो सकती है|

ग्रेजुएट के बाद क्या करें?

ग्रेजुएशन के बाद कई विकल्प उपलब्ध है कुछ ग्रेजुएट करके अपना करियर शुरू कर सकते हैं जबकि कुछ उच्च स्तर की शिक्षा के लिए आगे बढ़ सकते हैं|

Leave a Comment