E Tender Registration 2024: ई टेंडर क्या होता है| ई-टेंडर पोर्टल उद्देश्य, नियम

E Tender Kya Hota Hai: आज के लेख में हम आपको एक बहुत जरूरी विषय के बारे में बताने वाले हैं हम आपको बताने वाले हैं कि राज्य प्रशासन ने कैबिनेट बैठक के दौरान सरकारी टेंडर प्रक्रिया को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है क्योंकि पहले टेंडर लेने के लिए एक ही निविदा प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था जिससे लोगों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता था| ई निविदा प्रक्रिया को ऑनलाइन करने से सभी बोली दाताओं के पास जीतने का समान अवसर होगा और भ्रष्टाचार पर रुकाव लगेगा|

ई टेंडर प्रक्रिया का उपयोग करके आप घर बैठे आसानी से आवेदन कर सकेंगे| यही कारण है कि आज के लेख में हम आपको ई टेंडर क्या होता है के बारे में बताने वाले हैं| तो आज के लेख में हम आपको ई टेंडर के उद्देश्य, नियम और ई टेंडर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के बारे में भी बताएंगे| इन सभी जानकारी को जानने के लिए हमारे साथ अंत तक बन रहे|

Computer Engineer कैसे बने
सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने
AutoCAD क्या है
E Tender Kya Hota Hai

E Tender Kya Hota Hai

टेंडर एक अंग्रेजी शब्द है और हिंदी में इसको निविदा कहते हैं जबकि आम बोलचाल की भाषा में इसको ठेका के नाम से जाना जाता है सामान्यतः सरकारी विभागों में इसे निवेद के नाम से ही निकल जाता है जब किसी सरकारी विभाग या निजी कंपनियों द्वारा अपने कार्य को किसी दूसरे व्यक्ति या फर्म द्वारा कम से कम खर्चे में कराया जाता है तो इस प्रकार के कार्य को ठेका देना या टेंडर कहा जाता है और इस कार्य को करने वाली फर्म या व्यक्ति को ठेकेदार कहा जाता है|

अभी तक निविदा अर्थात टेंडर के लिए लोगों को निवेद पत्र भरने के पश्चात एक सीलबंद लिफाफे में डालकर उसे निविदा पेटी में डालना होता था| इस बॉक्स को एक निर्धारित अवधि के बाद संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों की उपस्थिति में खोला जाता था इनमें से जी निवेदन पत्र में कार्य को करने के लिए सबसे कम राशि अंकित होती थी उन्हें यह टेंडर दे दिया जाता था सबसे खास बात यह है कि मैन्युअल प्रक्रिया में जमा कर धांधलीय की जाने लगी|



जिसकी परिणाम स्वरुप कार्य निर्धारित मानकों के अनुरूप न होकर केवल खानापूर्ति होने लगी और कार्यों की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे इसके साथ ही सरकारी कार्यालय में भ्रष्टाचार व्याप्त होने लगा इस प्रकार की समस्याओं को देखते हुए सरकार ने टेंडर के लिए मैन्युअल प्रक्रिया को समाप्त करते हुए इसको ऑनलाइन कर दिया जिसे ई टेंडर कहते है|

कम इन्वेस्टमेंट में अच्छा बिजनेस आइडिया 
Bouncer Kaise Bane

टेंडर का उद्देश्य

ई टेंडर का उद्देश्य सभी नागरिकों को निविदाओं से संबंधित सभी प्रक्रियाओं को ऑनलाइन उपलब्ध कराना है| कैबिनेट बैठक के दौरान बिहार सरकार ने ई टेंडर प्रक्रिया को ऑनलाइन करने का संकल्प लिया अतीत में बोलियां एक हॉल या किसी अन्य स्थान पर रखी जाती थी जहां निवासी अपनी बोलियां बोलते थे उन स्थानों पर नागरिकों द्वारा बोलियां रोक दी गई| राज्य सरकार ने इन सभी प्रक्रियाओं के दौरान कई प्रकार के नागरिकों को सामने आने को ध्यान में रखते हुए ई टेंडर प्रक्रिया को ऑनलाइन बनाया सभी राज्यवासी अब घर बैठे आराम से अपने निवेद संबंधी कार्यों को ऑनलाइन कर सकते हैं लेकिन पहले उन्हें ई- निविदा के लिए पंजीकरण करना होगा|

E Tender के नियम

  • ऐसे नागरिक जिनके द्वारा टेंडर भरा जाता है उन सभी नागरिकों के द्वारा सही जानकारी दर्ज करनी चाहिए उसके विपरीत अगर व्यक्ति से टेंडर भरते समय कोई गलती हो जाती है तो टेंडर उत्तर आद्यक्षर द्वारा उन गलतियों के परिवर्तनों के स्थान पर सत्यापित होना चाहिए|
  • इसमें होने वाली गलतियों को सही करने हेतु उन पर दोबारा नहीं लिखना चाहिए इसका अनुपालन जी भी नागरिक के द्वारा किया जाएगा उनके टेंडर को अस्वीकृत कर दिया जाएगा|
  • किसी व्यक्ति द्वारा यदि अकेले ही टेंडर को दायर किया जाता है तो उसके द्वारा पते का दस्तावेज की सबूत जैसे विद्युत बिल, राशन कार्ड पैन कार्ड किराया बिल आदि को भी फॉर्म में अटैच किया जाना चाहिए|
  • टेंडर अधिसूचना जारी होने की तारीख के तीन महापूर्व से अधिक जो टेंडर उत्तर के नाम से जारी किया गया है टेंडर के साथ टेंडर उत्तर द्वारा पुलिस जांच प्रमाण पत्र संलग्न किया जाना चाहिए|
  • टेंडर उत्तर के नाम से जारी किया गया चरित्र प्रमाण पत्र किसी भी राज्य पट्टी अधिकारी या विशेष कार्यकारी मजिस्ट्रेट या विधायक/ सांसद द्वारा जो टेंडर अधिसूचना जारी होने के तीन माह से अधिक पूर्व का नहीं है उसको टेंडर फॉर्म के साथ अटैच करना चाहिए|
  • जिस व्यक्ति के टेंडर द्वारा भरा जाता है उसके द्वारा टेंडर भरने संबंधी सभी आवश्यक जानकारी को स्वयं के खर्चे से प्राप्त किया जाना चाहिए इसके साथ ही उसे कार्य का प्रकाश स्वयं को सभी स्थानीय शर्तें कार्य करने के स्थान तथा उससे संबंधित सभी बातों से अवगत कराना चाहिए|
  • इसके तहत प्राप्त होने वाले टेंडर के लिफाफे पर टेंडर संख्या उसका विवरण तथा अन्य विवरण स्पष्ट रूप से विधिवत सील बंद होना अनिवार्य है|
  • आपके द्वारा जी भी कंपनी या सरकारी प्रशासन का टेंडर प्राप्त किया जा रहा है वह कंपनी या सरकारी प्रशासन उच्चतम ऑफर न्याय किसी टेंडर को स्वीकार करने हेतु बधाई नहीं है|

टेंडर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको ई टेंडर के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा|
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज ओपन होगा|
E Tender Kya Hota Hai
  • इस होम पेज पर आपको Registration का ऑप्शन दिखाई देगा उस पर क्लिक करें|
  • रजिस्ट्रेशन के ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुलकर आएगा|
  • यहां आपसे कुछ जानकारी पूछी जाएगी जैसे- ईमेल आईडी, पासवर्ड, कंपनी का पूरा नाम, रजिस्टर पता, कंपनी के पार्टनर का नाम, सिटी स्टेट या राज्य पोस्टल कोड या पिन कोड पैन कार्ड नंबर जीएसटी नंबर कंपनी की स्थापना का वर्ष आदि अन्य जानकारी दर्ज करनी होगी|
  • इसके बाद आपको मांगे गए सभी दस्तावेजों को स्कैन करके अपलोड करना होगा|
  • दस्तावेज अपलोड करने के बाद आपको कैप्चा कोड दर्ज करना होगा|
  • अब आपको Submit बटन दिखाई देगा उस पर क्लिक करें|
  • अब आपका टेंडर रजिस्ट्रेशन करने के लिए आवेदन स्वीकार कर लिया जाएगा इस प्रक्रिया का पालन करके आप यह टेंडर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं|

टेंडर सर्च करने की प्रक्रिया

यदि आप ही टेंडर सर्च करना चाहते हैं तो आपको आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर हमारे द्वारा बताए गए हैं स्टेप्स को फॉलो करना होगा इन स्टेप्स को फॉलो करके आप ई टेंडर सर्च कर सकते हैं|

  • सबसे पहले आपको ई टेंडर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा|
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने एक होम पेज खुलकर आएगा|
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको Search के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा|
  • अब इस पेज पर आपको Tenders By Location के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आपके सामने नया पेज खुलकर आएगा|
  • अब आपको अपनी लोकेशन दर्ज करनी होगी|
  • लोकेशन दर्ज करने के बाद आपको कैप्चा कोड दर्ज करके Submit बटन पर क्लिक करना होगा|
  • अब आपको उस टेंडर का चुनाव करना होगा जिस टेंडर को आप डालना चाहते हैं उस पर आपको राइट क्लिक करना होगा|
  • जैसे ही आप क्लिक करेंगे आपके सामने टेंडर खुल जाएगा और आपकी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी|

E Tender Kya Hota HaiFAQ’s

ई-टेंडरिंग प्रक्रिया क्या है?

ऑनलाइन खरीद प्लेटफार्म का उपयोग करके बोली निवेदन भेजना और प्राप्त करने की प्रक्रिया ई-टेंडरिंग प्रक्रिया है|

ई-टेंडरिंग का दूसरा नाम क्या है?

ई-टेंडरिंग का दूसरा नाम ई प्रोक्योरमेंट (आपूर्तिकर्ता विनिमय) है|

टेंडर और ई टेंडर में क्या अंतर है?

टेंडरिंग में पेपर को संभालने की आवश्यकता होती है और यह समय लेने वाली भी होती है ई टेंडर पेपर अपलोड करने और अपलोड करने का एक इलेक्ट्रॉनिक पेपरलेस तरीका है|

Leave a Comment