सर्च इंजन क्या है? उपयोग एवं प्रकार और Search Engine कैसे काम करता है

Search Engine Kya Hai – दोस्तों सर्च इंजन का नाम तो आपने जरूर सुना होगा आज हम अपने लेख के माध्यम से आपको सर्च इंजन से संबंधित जानकारी ही प्रदान करेंगे क्योंकि बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्होंने केवल सर्च इंजन का नाम ही सुना है लेकिन उनको इस बारे में जानकारी नहीं है कि Search Engine Kya Hai और यह कैसे काम करता है यदि आपको भी इस विषय में जानकारी नहीं है और आप इस विषय में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे लेख को जरूर पढ़ें क्योंकि हम आपको सर्च इंजन से संबंधित सभी जानकारियां विस्तारपूर्वक बताएंगे लेस के अंतर्गत हम आपको सर्च इंजन के प्रकार उपयोग और इसका इतिहास भी आपको बताएंगे यदि आप इन सभी जानकारियों को जानना चाहते हैं तो हमारे लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक जरूर पढ़ें|

Search Engine Kya Hai

यदि आप जानना चाहते हैं कि Search Engine क्या है तो हम आपको बता दें कि Search Engine एक ऐसा Software है जिसको Internet के द्वारा चलाया जाता है और जहां पर हम किसी भी प्रकार की सूचना की खोज आसानी से कर सकते हैं हम जो भी चीज ढूंढना चाहते हैं यह जिसकी भी खोज करना चाहते हैं उसके अनुसार सर्च इंजन द्वारा हमें कई सारे विकल्प प्रदान किए जाते हैं उनमें से जो भी हमें सबसे अधिक उत्तम लगता है हम उसी उत्तर पर जाकर अपनी खोज खत्म कर लेते हैं और अपनी खोज से संबंधित सभी जानकारियां आसानी से प्राप्त कर लेते हैं|

कुछ मुख्य लोकप्रिय Search Engine के नाम जैसे- Google, Yahoo, MSN है सर्च इंजन का उपयोग हम एक प्रकार की कुंजी की तरह करते हैं जिसमें हमारे हर सवालों के विस्तार पूर्वक जवाब प्राप्त हो सकते हैं जिसकी सहायता से आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठ कर अपने मन में उठे किसी भी सवाल का जवाब आसानी से प्राप्त कर सकते हैं|

ये भी पढ़े – Freelancing Kya Hai 
ये भी पढ़े – SEO Kaise Kare

सर्च इंजन कैसे काम करता है

सर्च इंजन क्या होता है यह तो आप जान ही चुके हैं अब हम आपको सर्च इंजन कैसे काम करता है इसके बारे में बताएंगे हम आपको बता दें कि जो भी सवाल Text शब्द अपने Browser के Search Engine में लिखा जाता है उनको केवल बोला जाता है| यदि आप Google में Whai is Search Engine in Hindi Type करते हो तो यह Keyword है इस Keyword  को World Wide Web में ढूंढा जाता है जब यह Keyword कई Website के Title आर्टिकल के Content के साथ मैच होता है और Tags के साथ में होता है तो उसको सर्च रिजल्ट में शो करता है यह आम आदमी थोड़ा Technically समझते हैं|



इसके अलावा आपको बता देंगे सर्च इंजन 3 स्टेप्स में कार्य करता है सबसे पहले Crawling, Indexing, Ranking और रिट्रीवर आगे हम आपको इन्हीं तीनों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करेंगे|

Crawling

Crawling मतलब ढूंढना और अच्छे से समझलो एक वेबसाइट के सारे डेटा को अधिग्रहण करना या एक वेबसाइट की पूरी जानकारी हासिल करना, इस प्रोसेस में वेबसाइट को स्कैन करना, पेज का Title क्या है Keywords की जानकारी कांटेक्ट में कितने Keywords है इमेज और वेबसाइट के साथ कौन-कौन से पेज में लिंक है| लेकिन आजकल के Model Crawler में शायद एक Web Page के पूरे Cache को ही कॉपी कर लेते हैं इसके साथ-साथ पेज Layout कैसा है Advertise कहां कहां है लिंक कहां दिए गए हैं यह सभी स्टोर होता है| लिंक देने से यह भी फायदा होता है कि वह आपको बताता है कि अब आपको इससे आगे कहां पर जाना है और कहां पर आपको आपके सवाल से जुड़े सही जवाब प्राप्त हो सकते हैं|

Indexing

Indexing हमारे द्वारा सर्च किए गए प्रश्न के सभी जवाबों को इकट्ठा करके एक Database बनाता है इसको समझना बहुत आसान है Indexing एक Process है जहां Crawl के दौरान जो भी डाटा मिलता है उन सभी डाटा का डेटाबेस में प्रेस करना है एक एग्जांपल के तौर पर आपको बता दें कि बहुत सारी बुक्स है आप उन बुक्स के Author name, Books name, Books के हर पेज  को Read करने के लिए Crawling है लेकिन इन सब Details की Listing करना ही Indexing है|

अब इस बात पर गौर करें सर्च इंजन केवल एक वेबसाइट को क्रोल नहीं करती है बल्कि दुनिया में जितनी भी वेबसाइट है उनको Crawl और Indexing करती है गूगल सर्च सम्मेलन के मुताबिक Google Spider हर दिन करीबन 3 Trillion Page Scroll करती है इसका मतलब यह है कि गूगल के पास World में जितना Information है उन सब का Library है गूगल सर्च इंजन डाटा का बहुत बड़ा सर्वर है जहां डाटा हजारों लाखों की तादाद में जो Peta Byte Drive है वहां स्टोर होता है|

Ranking and Retrieval

Ranking and Retrieval की सहायता से हम किसी भी पेज को आसानी से सर्च इंजन के माध्यम से ढूंढ सकते हैं हमारे सवालों का सही जवाब नहीं दे सकता है जिसके पास हमारे सवालों के सही जवाब मौजूद हो तभी हम उस चीज पर आसानी से विश्वास कर पाते हैं| Search Engine पर केवल एक छोटा सा शब्द डालकर ही आप पूरे सवाल का जवाब प्राप्त कर लेते हैं सर्च इंजन पर कुछ ऐसे भी Content Keywords और Content  Page तथा टाइटल में बहुत कुछ समावेश होता है जिसकी सहायता से हम उन्हें आसानी से ढूंढ पाते हैं दूसरा तरीका रैंकिंग होता है जिसकी सहायता से Google के किसी भी पेज पर मौजूद किसी भी शब्द या वाक्य से जुड़े सवालों के जवाब हमें आसानी से प्राप्त हो जाते हैं|

Search Engine का इतिहास

यह तो आप सभी जानते ही होंगे कि वर्तमान समय में सवाल तो इतने अधिक है लेकिन उनका जवाब कहां से मिल सकता है इस बारे में यदि बात करें तो सर्च इंजन का नाम ही सबसे पहले आता है 90 के दशक की बात की जाए तो उस समय में इंटरनेट पर सर्च इंजन जैसी कोई भी सुविधा मौजूद नहीं थी कॉलेजों के दिन में कई सारे प्रोजेक्ट विद्यार्थियों के ज्ञान और उनकी समझ को जानने के लिए उनको दिए जाते थे| कुछ इसी प्रकार के प्रोजेक्ट कॉलेज में पढ़ने वाले एक  छात्रों को दिया गया था जिसने उस प्रोजेक्ट के नाम पर ही सर्च इंजन का आविष्कार कर डाला उनका नाम Alan Emtage था यह McGill University के छात्र थे  इन्होंने  कॉलेज प्रोजेक्ट के चलते ही सन 1990 में सर्च इंजन का आविष्कार किया|

ये भी पढ़े – गूगल क्या है
ये भी पढ़े- Affiliate Marketing क्या है

सर्च इंजन के प्रकार (Types of Search Engine)

Search Engine Kya Hai

सर्च इंजन मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं जिनके बारे में हम आपको बताने वाले हैं

  1. Crawler Based Search Engine
  2. Directories Based Search Engine
  3. Hybrid Search Engine

Crawler Based Search Engine

Crawler Search Engine के Database की नई सामग्री को क्रॉलर और इंडेक्स करने के लिए स्पाइडर, क्रॉलर, रोबोट और बोट प्रोग्राम का प्रयोग करते हैं यह किसी भी वेबसाइट को सर्च रिजल्ट में परिवर्तित करने के लिए Crawling, Indexing, Calculating, Relevancy और Retrieving Result इन सभी नियमों का पालन करना पड़ता है Google, Yahoo, Crawler सर्च इंजन के प्रमुख उदाहरण हैं|

Directories Based search engine

Web Directory को Subject Directory के रूप में जाना जाता है डायरेक्टरी सर्च इंजन को कैटेगरी के आधार पर वेबसाइट की एक लिस्ट दी जाती है और वेबसाइट किस विषय में है इसका एक छोटा Description भी दिया जाता है इस प्रकार के सर्च इंजन पूरे मानव संचालित होते हैं इसमें वेबसाइट का ओनर इन डायरेक्टरीज में खुद अपनी वेबसाइट सबमिट कर सकता है Yahoo, DMOZ, BOTM यह सभी डायरेक्टरी सर्च इंजन है के उदाहरण हैं|

Hybrid Search Engine

Hybrid Search Engine Crawler और Directories Search Engine का मिश्रण है इस केटेगरी में आने वाले सर्च इंजन, क्रॉलर सर्च इंजन और डायरेक्टरी सर्च इंजन दोनों से वेब पेज लेकर अपने परिणामों को दिखाता है| लेकिन वर्तमान में हाइब्रिड सर्च इंजन पूरी तरह क्रॉलर में आधारित हो गए हैं याहू गूगल हाइब्रिड सर्च इंजन के उदाहरण हैं|

सर्च इंजन का उपयोग

  • सर्च इंजन का उपयोग जानकारियां प्राप्त करने|
  • प्रश्नों के उत्तर ढूंढने|
  • नई जगह तलाशने|
  • फ्लाइट, ट्रेन, बस आदि की बुकिंग से जुड़ी बहुत सी वेबसाइटों को ढूंढने के लिए किया जाता है|
  • वर्तमान समय में सर्च इंजन का उपयोग बहुत व्यापक हो गया है टिकट बुकिंग से लेकर गाने, वीडियो, फिल्मों, शिक्षा, स्वास्थ्य. कृषि, संचार, देश विदेश से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए सर्च इंजन का उपयोग किया जाता है|

Conclusion (निष्कर्ष)

आज के लेख में हमने आपको Search Engine Kya Hai यह कैसे काम करता है से संबंधित सभी विस्तार पूर्वक जानकारियां प्रदान की आशा है कि आज की यह सभी जानकारी आपको पसंद आई होगी यदि हमारा लेख पढ़ने के बाद भी आपके मन में कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं| और अगर हमारे द्वारा प्रदान की गई सभी जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई हो और आपको समझ आए हो तो हमारे आर्टिकल को शेयर जरूर करें|

FAQ’s

सर्च इंजन कौन कौन से हैं?

गूगल, याहू, बिंग, डकडकगो, बेदू इंटरनेट एक्सप्लॉरर आदि है|

सर्च इंजन क्या होता है?

ऐसे कंप्यूटर प्रोग्राम खोज इंजन कहलाते हैं| जो कंप्यूटर सिस्टम पर भंडार सूचना में से वांछित सूचना को ढूंढ निकालते हैं|

दुनिया का पहला सर्च इंजन कौन सा है?

आर्ची सर्च इंजन दुनिया का पहला सर्च इंजन है जिसने 10 सितंबर 1990 को डेब्यू किया|

Leave a Comment