Inverter Kya Hai – इन्वर्टर क्या हैं ये काम कैसे करता है और इसके कार्य

इन्वेर्टर क्या हैं (Inverter kya hai in hindi) ये काम कैसे करता है इसके कार्य, इन्वर्टर कितने प्रकार के होते है जानिए पूरी जानकारी – यदि आप भी ये जानना चाहते है के इन्वर्टर क्या हैं| तो हम इन्वर्टर के बारे में आपको सभी जानकारी विस्तारपूर्वक देंगे| आज कल हर घर में इन्वर्टर का होना सामांन्य बात हैं| क्योकि इन्वेर्टर एक बहुत ही ज़रूरत की चीज़ हैं| इन्वर्टर न होने पर कई परेशांनियो का सामना करना पड़ जाता हैं|आपने अक्सर देखा होगा के गर्मी हो रही हैं| और आप मार्किट से आते हैं| सोचते हैं के आराम से हवा में बैठकर आराम करेंगे| तभी लाइट चली जाती हैं| तो ऐसे में व्यक्ति बड़ा क्रोधित हो जाता हैं| या कोई पूरे दिन का थका हारा शाम को ऑफिस से घर आता हैं| और घर में लाइट ना हो तो ऐसी स्थति में व्यक्ति इस लाइट के मसले से बहुत परेशान हो जाता हैं| यही वजह हैं के आज कल हर घर मेंइन्वर्टर होता हैं|

Inverter Kya Hai

Inverter Kya Hai – Inverter एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक मशीन हैं| इन्वर्टरएक ऐसी पावर सप्लाई को कहते हैं| जिसके दुवारा A.C. करंट को D.C. करंट में और D.C. करंट को A.C. करंट में बदला जा सकता हैं| इससे प्राप्त A.C.  किसी भी वांछित वॉल्टता और आवृति की हो सकती हैं| हम आपको आसान भाषा में समझाते हैं| यदि आपके घर की बिजली चली गयी हैं| और आपके घर के सभी लाइट से चलने वाले उपकरण जैसे – लाइट पंखा कूलर टेलीविजिन  बंद हो गए हैं|

तो ऐसी स्थति में आप इन्वर्टर का प्रयोग करके| अपने घर के सभी बिजली से चलने वाले उपकरणों को इन्वर्टर से चला सकते हैं| और लाइट को लेकर अपनी निराशा दूर कर सकते हैं| लेकिन आपको इस बात का ख्याल रखना चाहिए के आपका इन्वेर्टर चार्ज हैं भी या नहीं| इसलिए आपको पहले मेन लाइट से इन्वेर्टर को चार्ज करना चाहिए| कियोकि इन्वर्टर की बैटरी उसकी पावर सोर्स होती हैं|

बिजली मीटर बदलने के लिए एप्लीकेशन 
E-commerce क्या होता है

Inverter कैसे काम करता हैं

इन्वर्टर के कार्य करने की दो स्थति होती हैं| इन्वर्टर क्या हैं



  • Situation- A

इन्वर्टर एक इलेक्ट्रिकल सर्किट हैं| ये किसी दिए गए वोल्टेज के D.C. करंट को A.C. करंट में बदलता हैं| हम आपको बता दे जब आपके घर में लगातार पावर सप्लाई आ रही हैं| यानी के Electricity  से आने वाली मेन A.C. पावर सीधे आपके इन्वर्टर में आ रही हैं| और इन्वर्टर के माध्यम से आपके घर के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को पावर दे रही हैं| बैटरी को पूरा चार्ज करने के लिए A.C. पावर को बैटरी के तारो से जोड़कर डायरेक्ट पावर में बदला जाता हैं|

  • Situation -B

जब पावर कट हैं| और आपको घरेलू इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को चलाने  की ज़रूरत हैं| तो आप इन्वर्टर का उपयोग करके इसको चला सकते हैं| बस अपने पावर इन्वेर्टर को बैटरी से कनेक्ट करे| और अपने A.C. डिवाइसेस जिनको आप चलाना चाहते हैं| उनको वायर से कनेक्ट करे| पावर कट के समय घरेलू उपकरण चलाने  के लिए इन्वेर्टर र बैटरी में चार्ज किये गए D.C. पावर को A.C. पावर में बदलता हैं| अब केवल वही उपकरण चल सकगे| जिनको आपने इन्वेर्टर से चलने को वायर से कनेक्ट किया हैं| इन्वेर्टर उन घरो और ऑफिस में बहुत ज़रूरी होता हैं| जिन ऑफिस और घरो में पावर कट होता हैं|

इन्वर्टर एसी और नॉन इन्वर्टर एसी मैं क्या फर्क है?
5G क्या है

इन्वर्टर का कार्य

इन्वर्टर बैटरी से आने वाले D.C. Current को A.C. Current में बदलता  हैं| जिससे हम अपने घर के ज़रूरी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को चला सकते हैं|

इन्वेर्टर क्या हैं

Types of inverter

इन्वेर्टर दो प्रकार के होते हैं

  1. Power Inverter
  2. Solar  Inverter

Power inverter

Modified sine wave inverter – मॉडिफाइड साइन वेव इन्वेर्टर की बात करे तो हम आपको बता दे की Modified sine wave inverter बहुत सस्ते होते हैं| हम आपको बता दे| इनकी कार्य क्षमता ठीक नहीं होती हैं| कम सर्किट होने की वजह से यह इन्वेर्टर बहुत अधिक लाइट और बैटरी की खपत करता हैं|

Pure sine wave inverter प्योर साइन वेव इन्वेर्टर की बात करे तो ये इन्वेर्टर र अच्छी क्वालिटी के इन्वेर्टर माने जाते हैं| Pure sine wave inverter मॉडिफाइड इन्वेर्टर से काफी महंगे तो होते हैं| लेकिन प्योर साइन वेव इन्वेर्टर र के कार्य करने की क्षमता बहुत अच्छी और तेज़ होती हैं| और ये इन्वेर्टर कार्य करने के दौरान बहुत कम ऊर्जा की खपत करता हैं|

Solar inverter

सोलर इन्वेर्टर भी एक प्रकार का इन्वेर्टर ही होता हैं| Solar inverter धुप से चार्ज होते हैं| सोलर इन्वेर्टर को चार्ज करने के लिए हमे सोलर प्लेट की आवश्यकता होती हैं| इसी के साथ हम आपको बता दे सोलर प्लेट बहुत अधिक महंगी होती हैं| लेकिन ये इन्वेर्टर उन लोगो के लिए बहुत उपयोगी साबित होते हैं| जिनके गांव, कस्बे या जिनके एरिये में लाइट बहुत कम आती हैं| तो ऐसी स्थति में आप सोलर इन्वेर्टर खरीद सकते हैं| लेकिन सोलर इन्वर्टर खरीदने के लिए आपको अधिक पैसा खर्च करना पड़ेगा|

बैटरी के कितने भाग होते हैं

बैटरी के दो भाग होते हैं

  1. Battery
  2. U.P.S.

सबसे अच्छा इन्वर्टर कौन सा माना जाता हैं

Luminous  भारतीय बाजार में सबसे अच्छा इन्वर्टर बैटरी बनाने में शीर्ष ब्रांड में से एक हैं| तथा Luminous Inverter सबसे अच्छा माना जाता हैं| 

इन्वर्टर आवाज़ क्यों  करता हैं

इन्वर्टर आवाज़ करने का कारण ये हो सकता हैं| के इन्वर्टर पर ज़रुरत से ज़ादा लोड पड़ रहा हो| या फिर इन्वर्टर आवाज़ करने का कारण ये भी हो सकता हैं| की कूलिंग फैन में कोई खराबी आ गयी हो|

क्या बर्रिश का पानी इन्वर्टर बैटरी में ड़ाल सकते हैं

लोगो में एक आम बात होती हैं| के बर्रिश का पानी साफ़ सुथरा होता हैं| लेकिन यह ज़रूरी नहीं होता के जो पानी आँखों से साफ़ दिखाई दे रहा हो| वो पानी शुद्ध भी हो| Distilled water ppm 5 होता हैं| और बारिश का पानी ppm 20 होता हैं| इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं| की बारिश का पानी कितना साफ़ होता हैं| तो हम आपको बता दे की बारिश के पानी को फ़िल्टर करके इन्वर्टर की बैटरी में ड़ाल सकते हैं|

Conclusion निष्कर्ष

मित्रो आशा करती हूँ की आज के इस आर्टिकल से आप इन्वर्टर के बारे में जान गए होंगे की Inverter Kya Hai | ये कैसे काम करता हैं| और इन्वर्टर कितने प्रकार के होते हैं| इन्वर्टर के बारे में आज की हमारी जानकारी आपको पसंद आयी हो तो इसको अपने दोस्तों और रिश्तेदारो में शेयर करे| क्योकि आज कल हर घर में इन्वर्टर होता हैं| इसलिए हर व्यक्ति को इन्वर्टर के बारे में सभी बातो का ज्ञान होना आवश्यक हो गया हैं|

Leave a Comment