सीएचओ (CHO) कैसे बने? CHO Full Form योग्यता, सिलेबस, एग्जाम पूरी जानकारी

CHO Kya Hota Hai, सीएचओ (CHO) कैसे बने CHO Full Form सीएचओ बनने के लिए योग्यता सिलेबस तथा सीएचओ की Salary के बारे में पूरी जानकरी हिंदी में

सीएचओ (CHO) का नाम आपने कहीं ना कहीं जरूर सुना होगा क्योंकि यह पद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत आने वाला बहुत महत्वपूर्ण पदों माना जाता है स्वास्थ्य के क्षेत्र में Community Health Officer का योगदान हमेशा अव्वल दर्जे पर होता है स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमेशा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सी एच ओ ही हर प्रकार के मुद्दों में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं| यदि आप सी एच ओ से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं या आप भी सी एच ओ बनना चाहते हैं तो हमारे द्वारा दी गई सभी जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ें क्योंकि इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि CHO क्या होता है सीएचओ (CHO) कैसे बने, इसके कार्य, योग्यता, सिलेबस और कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर की सैलरी के बारे में भी हम आपको सभी विस्तार पूर्वक जानकारियां प्रदान करेंगे इन सभी जानकारियों को जानने के लिए हमारे साथ अंत तक बने रहें|

CHO Kya Hota Hai (CHO Full Form)

CHO Kya Hota HaiCHO का पूरा नाम Community Health Officer होता है और हिंदी में इसे सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी के नाम से जाना जाता है| इसे नेशनल हेल्थ मिशन के तहत इस उद्देश्य से चलाया जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र के प्राइमरी हेल्थ सेंटर सब सेंटर आंधी में प्राथमिक चिकित्सा की सुविधा आसानी से उपलब्ध कराई जा सके जैसे कि हमने आपको अभी बताया कि सी एच ओ का पद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत आने वाला एक महत्वपूर्ण पद माना जाता है| हमारे देश में बहुत सारे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मौजूद है जहां पर इलाके में रहने वाले लोगों के लिए फ्री में उपचार जैसी सुविधाएं प्रदान कराई जाती है|

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अलग-अलग रैंक पर कई कर्मचारी और ऑफिसर कार्यरत होते हैं मेडिकल क्षेत्र में जो एक बहुत ही सम्मानजनक पद होता है क्योंकि कोई भी स्वास्थ्य संबंधी बीमारी में समस्या के दौरान अधिकतर लोग सीधे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ही पहुंचते हैं और उनकी कंडीशन के आधार पर उन्हें आगे रेफर किया जाता है|



सीएचओ (CHO) कैसे बने

वर्तमान समय में विद्यार्थी जब पढ़ाई करते हैं तो पहले से ही अपने लक्ष्य को निर्धारित कर लेते हैं यदि विद्यार्थी अपने कैरियर लक्ष्य के तौर पर सी एच ओ बनने का लक्ष्य निर्धारित कर चुके हैं तो उनको सी एच ओ कैसे बने के बारे में सभी विस्तार पूर्वक जानकारी नीचे प्रदान की गई है|

ये भी पढ़े – 12वीं के बाद क्या करें?
ये भी पढ़े – B.Sc Kya Hai 

12वीं कक्षा पास करें

सी एच ओ बनने के लिए आपको कई प्रकार के चरणों से गुजरना होगा उनमें सबसे पहला चरण आपको अपनी शिक्षा के तौर पर 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करनी हैं यदि आप 12 वीं कक्षा विज्ञान वर्ग से पास करते हैं तो सबसे अच्छा है अन्यथा आप अन्य विषय वर्ग के साथ भी 12वीं कक्षा पास कर सकते हैं| किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा पास करना और 12वीं कक्षा में न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करना अनिवार्य रखा गया है जो विद्यार्थी अभी 11वीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे हैं उन विद्यार्थियों के लिए सबसे बेहतरीन सलाह यह रहेगी कि आप सी एच ओ बनने के लिए विज्ञान वर्ग के साथ ही 12वीं कक्षा उत्तरण करें जिससे आपको आगे की प्रक्रिया के लिए आसानी हो|

CHO Kya Hota Hai

बीएससी नर्सिंग के लिए प्रवेश परीक्षा में भाग लें

वर्तमान समय में 12वीं कक्षा पास करने के बाद बीएससी नर्सिंग के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन कराया जाता है अतः आप 12वीं कक्षा पास करते ही BSS Nursing के लिए प्रवेश परीक्षा में दाखिल होगा बीएससी नर्सिंग कोर्स के लिए कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं| यदि आप बीएससी नर्सिंग प्रवेश परीक्षा में दाखिला नहीं ले पाते हैं तो आप डायरेक्ट प्राइवेट कॉलेज में बीएससी नर्सिंग के लिए आवेदन करें हालांकि वहां आपको अधिक फीस देनी पड़ सकती है|

BSS Nursing की पढ़ाई पूरी करें

बीएससी नर्सिंग 4 वर्ष की अवधि का एक मेडिकल कोर्स होता है जिसमें आपको स्वास्थ्य संबंधित हर प्रकार की समस्या में किसी प्रकार से मरीज का इलाज करना है उसके बारे में संपूर्ण विस्तृत ज्ञान उपलब्ध करवाया जाएगा| जिसमें आपको 6 महीने की ट्रेनिंग भी दी जाएगी ट्रेनिंग के दौरान आपको किसी सरकारी अस्पताल में 6 महीने तक नर्सिंग ऑफिसर के तौर पर ड्यूटी देनी होंगी जब बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई पूरी हो जाती है तो आपको BSS Nursing का एक Certificate दिया जाएगा|

Training प्राप्त करें और नौकरी Join करें

यदि आप Exam पास कर लेते हैं तो एग्जाम पास करने के बाद आपको कम से कम 6 महीने की ट्रेनिंग किसी Health and Wellness Center में जाकर लेनी होती है और Training पूरी होने के बाद व्यक्ति को सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी की पोस्ट पर नौकरी प्रदान की जाती है|

CHO Exam Syllabus

जनरल नॉलेज (General Knowledge)

  • खेल और संस्कृति |
  • समाज और विराशत |
  • तीर्थ स्थान |
  • राजनीती और साहित्य |
  • राज्य के प्रमुख कार्यक्रम |
  • राज्य का सामान्य ज्ञान |
  • प्रशिद्ध नदियाँ |
  • पर्यटन श्थल |
  • सरकार की महत्त्वपूर्ण योजनायें |

एप्टीट्यूड (Apptitude)

  • सूचकांक और सूरदास |
  • कर्मपरिवर्तन और संयोजन |
  • LCM और HCF |
  • द्विघातीय समीकरण |
  • समय और कार्य साझेदारी |
  • क्षेत्रमिति |
  • समय और दुरी |
  • सरल समीकरण |
  • अनुपात और समानुपात |
  • लाभ और हानि |
  • औसत |
  • चक्रवृद्धि ब्याज |
  • प्रतिशत |
  • साधारण ब्याज |

रीजनिंग (Reasoning)

  • कोडिंग और डिकोडिंग |
  • लॉजिकल रीजनिंग |
  • आंकड़ा निर्वचन |
  • दिशा |
  • सदृश्य |
  • वर्णमाला श्रंखला |
  • क्यूब्स और पासा |
  • विश्लेष्णात्मक तर्क |
  • पहेलियाँ मौखिक तर्क |
  • विषय विशिष्ट पाठ्यकम
  • एनाटोमी और फिजियोलॉजी |
  • मनोरोग नर्सिंग |
  • लेखाकर्म |
  • पोषण |
  • जीव रसायन |
  • मनोविज्ञान |
  • स्वास्थ्य शिक्षा और संचार |
  • कौसल |
  • फार्मेसी |
  • अस्पताल और नैदानिक |
  • मानसिक स्वास्थ्य |
  • नर्सिंग प्रबंधन |
  • नर्सिंग की मूल बातें |
  • ओषध |
  • मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग |
  • शरीर विज्ञानं |
  • क्लिनिकल पैथालोजी |
  • जहारज्ञान |
  • गायनकोलोगिकल नर्सिंग |
  • मिडवैफरी |

(CHO Eligibility) सीएचओ बनने के लिए योग्यता

यदि आप CHO बनना चाहते हैं तो आपको बता दें कि सी एच ओ बनने के लिए बहुत सी योग्यताओं को निर्धारित किया गया है जिनके बारे में हम आपको नीचे जानकारी प्रदान करेंगे|

  • CHO बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं पास करनी होगी|
  • 12वीं कक्षा में आपके कम से कम 50% अंक होने अनिवार्य हैं|
  • Community Health Officer बनने के लिए व्यक्ति के पास बीएससी नर्सिंग पोस्ट बेसिक BSS Nursing अथवा GNM की डिग्री होनी चाहिए|
  • GNM की डिग्री प्राप्त करने वाले उम्मीदवार को भी सी एच ओ पद के लिए योग्य माना जाएगा|
  • सी एच ओ पद के अंतर्गत आवेदन करने के लिए पुरुष तथा महिला दोनों को योग्य माना गया है|
  • आवेदन करने वाले महिला व पुरुष की अधिकतम आयु 35 वर्ष निर्धारित की गई है| हालांकि राज्य सरकार के द्वारा आरक्षित जातियों को अधिकतम आयु सीमा में कुछ छूट प्रदान की गई है|
  • Community health officer बनने के लिए व्यक्ति के पास स्वास्थ्य के क्षेत्र में नर्सिंग ऑफिसर के तौर पर कम से कम 2 वर्ष का अनुभव होना अनिवार्य है|
  • जो उम्मीदवार CHO पद के लिए आवेदन करना चाहते हैं उस उम्मीदवार का मानसिक रूप से स्वस्थ होना अनिवार्य है|
ये भी पढ़े – Career Counselling क्या होता है ?
ये भी पढ़े – डी एल एड (D.EL.ED) क्या है? 

सीएचओ के मुख्य कार्य

जो व्यक्ति Community Health Officer की पोस्ट पर पोस्टर होता है उसे आशा वर्कर और ग्राम प्रधान तथा एएनएम के साथ मिलकर हेल्थ से संबंधित कार्यों को करना होता है| भारत के जितने भी राज्य है उन सभी राज्यों के हर जिले में कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर एक ही होता है|

  • सी एच ओ का मुख्य कार्य देश के ग्रामीण इलाके में लोगों को स्वास्थ्य संबंधित सुविधाएं उपलब्ध कराना है इन कार्यों में मरीजों को इलाज करवाना|
  • OPD का संचालन करना|
  • गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को स्वास्थ्य उचित सलाह देना|
  • दुर्घटना की स्थिति में व्यक्ति को प्राथमिक उपचार देना आदि क्रियाएं शामिल होती है|

क्या CHO की नौकरी परमानेंट है

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत सी एच ओ कर्मचारियों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शामिल किया गया है| लेकिन कई लोगों के मन में यह सवाल उत्पन्न होता है कि क्या सीएचओ अधिकारी परमानेंट सरकारी अफसर होते हैं या फिर इन्हें निश्चित समय अवधि के लिए है एक अधिकारी के तौर पर कार्यरत किया जाता है|

तो हम आपको बता दें कि आयुष्मान भारत योजना की नई गाइडलाइन के अनुसार यदि कोई व्यक्ति लगातार Community Health Officer के तौर पर 6 वर्ष तक कार्य करता है| यानी व्यक्ति 6 वर्ष का कार्यकाल पूरा कर लेता है तो उसे स्थाई नौकरी पर रख लिया जाता है आपको बता दें कि व्यक्ति 6 वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेकर प्रमोशन पाने का हकदार होता है|

Community Health Officer की सैलेरी

यदि आप जाना चाहते हैं किसी CHO की सैलरी कितनी होती है तो हम आपको बता दें कि सीएचओ को बहुत ही आकर्षक मंथली सैलेरी पैकेज मिलता है राज्य के हिसाब से सैलरी में थोड़ा अंतर होता है| लेकिन अगर बात करें औसतन सैलरी की तो सीएचओ अधिकारी को प्रतिमाह 25,000 से 40,000 तक का वेतन प्रदान किया जाता है इसके अलावा सी एच ओ अधिकारी को सैलरी के साथ अलाउंस भी मिलता है|

इसके अतिरिक्त आपको एक और जरूरी बात बता दें कि सीटों के लिए ली जाने वाली परीक्षा के पश्चात जिन उम्मीदवारों को चुना जाता है ट्रेनिंग के लिए उन्हें प्रतिमाह सैलरी भी प्रदान की जाती है|

निष्कर्ष – CHO Kya Hota Hai

दोस्तों आज के लेख के माध्यम से दी गई सी एच ओ अधिकारी कीजिए बारे में सभी जानकारी आपको पसंद आई होगी यदि आपको हमारे द्वारा सीएचओ (CHO) कैसे बने से संबंधित सभी जानकारी पसंद आई हो और आपके लिए उपयोगी साबित हुई हो तो हमारे लेख को शेयर जरूर करें|

Leave a Comment