(Ozone layer) ओजोन परत क्‍या है, जानें क्‍यों है जरुरी है और इसे कैसे बचाएं

दोस्तों क्या आप ओजोन परत के बारे में जानते हैं| बहुत कम लोग ऐसे हैं| जो ओजोन परत की सभी जानकारी को जानते होंगे| इसलिए आज हम आपको Ozone layer के बारे में सभी जानकारी देने वाले क्योंकि अधिकतर लोग ऐसे हैं| जिन्होंने सिर्फ ओजोन परत के बारे में सुना है लेकिन वह इस बारे में जानते नहीं है| तो हम आपको बता दें| ओजोन परत के बिना पृथ्वी पर जीना बहुत मुश्किल है| बल्कि यह कह दे कि ओजोन लेयर के बिना पृथ्वी पर जीना मुश्किल ही नहीं असंभव है| वायु प्रदूषण दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है| यही कारण है कि मौसम परिवर्तन ओजोन लेयर की स्थिति को बहुत खराब कर रहा है|

यदि और Ozone layer की कमी होगी| तो पराबैंगनी  किरणों का स्तर बढ़ जाएगा| इससे पृथ्वी को बहुत अधिक नुकसान उठाना पड़ सकता है| इसलिए हम सभी को ओजोन लेयर के बारे में जागरूक होना पड़ेगा|इस लेख के माध्यम से हम बहुत से लोगों को Ozone layer के बारे में जागरूक करने की कोशिश कर रहे हैं| उम्मीद है कि आप हमारे इस लेख के अंत तक बने रहेंगे| और इस लेख से ओजोन लेयर के बारे में सभी जानकारी जानकर जागरूकता हासिल करेंगे|

ओजोन परत क्या है ( Ozone layer )

ओजोन परत को बहुत से लोग सुरक्षा कवच भी बोलते हैं| जो सूर्य से आने वाली पराबैंगनी किरणों से पृथ्वी की रक्षा करती है| पृथ्वी की सतह से 15 से 25 किलोमीटर ऊंचाई पर जो परत स्थित है| उसे ही ओजोन परत कहते हैं| तथा आपको बता दें कि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गार्डन डोब्सन ने वर्ष 1957 को ओजोन लेयर की खोज की| ओजोन परत मानव तथा जीव जंतुओं के जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है| इसके बिना पृथ्वी पर रहना जीव जंतु तथा मानव के लिए असंभव होता है| 3 परमाणुओं से मिलकर ओजोन परत बनती है| यह एक प्रकार की बहुत पतली परत होती है| यह एक गंध गैस की तरह होती है| यह हल्के नीले रंग की होती है|

Ozone Layer ओजोन परत सूर्य से निकलने वाली पराबैंगनी किरणों को पृथ्वी पर आने से 95% तक रोकती है|



Ozone layer
(Lunar Eclipse) चन्द्र ग्रहण क्या होता है
विश्व व्यापार संगठन (What Is WTO) क्या है

ओजोन परत की स्थिति खराब होने के दुष्प्रभाव

  • ओजोन परत की खराब स्थिति के कारण दिन-प्रतिदिन मानव तथा जीव जंतुओं के लिए खतरा बढ़ता ही जा रहा है|
  • इससे मनुष्य में त्वचा कैंसर होने की संभावना होती है|
  • Ozone layer की खराब स्थिति से त्वचा में जलन तथा एलर्जी होने लगती है|
  • अधिक समय तक इसके संपर्क में आने से आंखों को बहुत नुकसान होता है| जैसे- आंखों में जलन तथा मोतियाबिंद आदि होने का खतरा रहता है|
  • यह स्क्रीन की उम्र को तेजी से बढ़ती है क्योंकि इसमें अल्ट्रावायलेट किरणें होती है|
  • वाहनों से निकलने वाला धुआं बहुत हानिकारक होता है|
  • यदि कोई महिला गर्भवती है| तो इन किरणों से उसके नवजात शिशु पर भी बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है|           

Ozone layer कैसे बनती है

हम आपको बता दें| कि ओजोन परत सूर्य से निकलने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों से बनती है|  तथा यह अल्ट्रावायलेट किरणें हमारे वातावरण में मौजूद होती है| अल्ट्रावायलेट किरणें ऑक्सीजन 0 2 के अणु पर गिरती है| तो यह ऑक्सीजन के दो परमाणुओं को तोड़ देती है| टूटने के कारण यह परमाणु अलग अलग हो जाते हैं| तथा इसके बाद यह परमाणु ऑक्सीजन के अन्य अणुओं से मिल जाते हैं| ऑक्सीजन के अन्य अणुओं से मिलने के बाद यह ऑक्सीजन 03 का निर्माण करते हैं|

ozone layer

ओजोन लेयर के लाभ

  • सूर्य से आने वाली पराबैंगनी किरणों से हमारी रक्षा करती है|
  • ओजोन परत मानव जीव जंतु तथा पेड़ पौधों को इन किरणों के कारण होने वाली बीमारियों से बचाती है|
  • ओजोन परत धरती के वायुमंडल को कंट्रोल करने में सहायता करती हैं|
  • ओजोन लेयर मनुष्य में होने वाली त्वचा कैंसर तथा आंखों में जलन जैसी बीमारियों का खतरा भी कम करती हैं|
  • ओजोन परत सूर्य से आने वाली पराबैंगनी किरणों की मात्रा को कम करती है|
  • ओजोन परत का हमारे जीवन में बहुत महत्व होता है|
  • ओजोन परत पृथ्वी पर होने वाली फसलों को आने से बचाती है|

ओजोन परत घटने से हानि

यदि ओजोन परत घट जाती है| या ओजोन परत में कमी आ जाती है| तो इससे हमारी पृथ्वी पर बहुत नुकसान होता है| ओजोन परत घटने के कारण पराबैंगनी किरणें वायुमंडल में प्रवेश कर जाएंगी| तथा यह कई प्रकार की हानियों और दुष्प्रभावों का कारण बनेगी|

ओजोन लेयर घटने से आपको कई प्रकार की हानि हो सकती है|

 जैसे-

  • ओजोन परत में कमी आने के कारण पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर हावी हो जाएंगी| इससे मनुष्य जीव जंतु तथा पेड़ पौधों को बहुत नुकसान होगा|
  • ओजोन लेयर घटने से मनुष्य तथा जीव जंतुओं में बहुत सी बीमारी हो सकती है|
  • किरणों के लगातार घटने से हमारी आंखों में एलर्जी हो सकती है|
  • समुंद्री जीव जंतुओं को भी ओजोन परत घटने से हानि होती है|
  • घटी हुई और जॉन किरणों के लगातार संपर्क में रहने से त्वचा कैंसर का खतरा होता है|

ओजोन परत को बचाने के उपाय

यदि आप ओजोन परत को बचाने के उपाय जानना चाहते हैं तो हमने आपको इस बारे में नीचे कुछ उपायों के बारे में बताया है जिनको जानकर आप ओजोन परत को बचा सकते हैं|

  • हमें ओजोन परत को नुकसान देने वाली गैसों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए ओजोन परत को नुकसान पहुंचाने वाली सबसे हानिकारक गैसें क्लोरोफ्लोरोकार्बन, हैलोजन युक्त, हाइड्रोकार्बन, मिथाइल, ब्रोमाइस और नाइट्रस ऑक्साइड है|
  • ओजोन परत को हानिकारक होने से बचाव के लिए हमें कार का कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए हमें अधिकतर पैदल या फिर साइकिल से चलना चाहिए|
  • हमें अपने Air Conditioner को Maintain करके रखना चाहिए क्योंकि इसमें सीएफसीएस का इस्तेमाल होता है और एसी में खराबी होने पर यह हानिकारक रसायन वातावरण में चला जाता है|
  • हमें अधिकतर Local Product भी खरीदने चाहिए जिससे दूर से आने वाले उत्पादों का कम इस्तेमाल हो और इनके Transport के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले व्हीकल का न्यूट्रस ऑक्साइड कम किया जा सके|
  • हमें ऐसे Cleaning Product का इस्तेमाल नहीं का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जो स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए हानिकारक है क्योंकि अधिकतर ऐसे Cleaning Product आते हैं जिनमें Solvent और Substance Corrosive होते हैं इनकी जगह आप नॉनटॉक्सिक उत्पादों का इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे- बाइकार्बोनेट या सिरका|

ओजोन परत के कार्य

Ozone Layer के बहुत से मुख्य कार्य होते हैं| पृथ्वी पर ओजोन परत बहुत से कार्य करती है| पृथ्वी पर कार्य करने के साथ-साथ मनुष्य तथा जीव जंतुओं के जीवित रहने के लिए बहुत जरूरी होती है| ओजोन लेयर के हमारे जीवित रहने में हमारी रक्षा करती है| ओजोन लेयर के बहुत से मुख्य कार्य हैं| जिनके बारे में हम नीचे बताने वाले हैं|

  • यह पर्यावरण और पृथ्वी के लिए सुरक्षा कवच का कार्य करती है|
  • तथा यह हमारी पृथ्वी का एक रक्षा कवच होती है|
  • ओजोन परत सूर्य से आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों को अवशोषित करती है|
  • ओजोन लेयर सूर्य की हानिकारक किरणों को पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करने से रोकती है|

ओजोन क्षरण के कारण

दुनिया में आजकल बहुत से केमिकल का प्रयोग हो रहा है| मानव द्वारा निर्मित इन्हीं केमिकल्स ने ओजोन परत को नष्ट कर दिया है| मानव द्वारा प्रयोग में लाए जाने वाले केमिकल के कारण ही ओजोन परत में बहुत सी कमी आ गई है| ओजोन परत की इस कमी के लिए प्राकृतिक कारण के साथ-साथ मानवीय कारण भी जिम्मेदार है|

  1. क्लोरो फ्लोरो ओजोन क्षरण का एक बहुत बड़ा कारण है|
  2. सफाई के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पदार्थों में कार्बन टेट्राक्लोराइड पाया जाता है|
  3. यह ओजोन परत को बहुत नुकसान हो जाता है|
  4. ओजोन क्षरण शरीर की प्रतिरोधक क्षमता समाप्त हो जाती है|
  5. ओजोन क्षरण के कारण ही निमोनिया, ब्रोंकाइटिस, अल्सर नामक रोग हो जाते हैं|

Conclusion

दोस्तों कैसी लगी आज की हमारी ओजोन परत को लेकर सभी विस्तार पूर्वक जानकारी| उम्मीद है| आपको यह सभी जानकारी पसंद आई होगी| और आप अच्छे से जान गए होंगे कि हमारे जीवन में ओजोन परत का क्या महत्व होता है| लगातार घट रही ओजोन परत के प्रति हम सभी को जागरूक होकर ओजोन परत को घटने से रोकना होगा| यदि आप ओजोन परत को लेकर जागरूक होना चाहते हैं| तो हमारे इस लेख को शुरू से अंत तक जरूर पढ़ें| और अपने दोस्तों तथा रिश्तेदारों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें| ताकि वह भी ओजोन परत के प्रति जागरूक हो सके|

FAQs

ओजोन परत की खोज कब और किसने की थी?

Ozone layer की खोज सन 1913 में फ्रांस के भौतिक विदो फेबरी चार्ल्स और हेनरी बुसोन ने की थी

ओजोन गैस का रासायनिक सूत्र क्या है?

ओजोन गैस का रासायनिक सूत्र ’03 ‘है|

Ozone layer किस से बनी हुई है?

ओजोन परत पृथ्वी से करीब 15 से 30 किलोमीटर के बीच रहती है सूर्य से यूवी किरणों से खुद को और अन्य जीवित चीजों को बचाती है|

Leave a Comment