(OPD की फुल फॉर्म ) ओपीडी क्या होता है पूरी जानकारी

ओपीडी क्या होता है, OPD Full Form, OPD की फुल फॉर्म क्या होती है तथा OPD और IPD में क्या अंतर है जाने हिंदी में

मित्रों क्या आप जानते हैं की OPD Kya Hai| आप सभी ने कहीं ना कहीं OPD का नाम तो सुना होगा ही लेकिन क्या आप जानते हैं| कि ओपीडी की फुल फॉर्म क्या है| ओपीडी क्या होता है| तथा OPD और IPD में क्या अंतर है| यदि आपको इन सभी बातों का ज्ञान नहीं है| और आप ओपीडी के बारे में जानना चाहते हैं| तो आज का हमारा यह लेख ओपीडी की सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको प्रदान करेगा| OPD का हर अस्पताल में अलग से विभाग होता है| यह रोगी तथा अस्पताल के कर्मचारियों के संपर्क की पहली स्थिति होती है| यदि आप OPD के बारे में सभी विस्तार पूर्वक जानकारी चाहते हैं| तो हमारे इस लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें|

ओपीडी क्या है

OPD अलग-अलग प्रकार के होते हैं| सामान्य तौर पर OPD के कक्ष Ground Floor पर ही बनाए जाते हैं| क्योंकि जब भी कोई मरीज अस्पताल जाता है| तो उसको ओपीडी कक्ष में ले जाया जाता है| इसके कक्षा ग्राउंड फ्लोर पर इसलिए बनाए जाते हैं| ताकि किसी मरीज को लाने और ले जाने मैं कोई परेशानी ना हो मरीज को आसानी से ओपीडी कक्ष में लाया जा सके| OPD कक्ष में मरीज की बीमारी का पता लगाया जाता है|

ओपीडी को कई अलग-अलग भागों में बांटा गया है| जैसे- स्त्री रोग, हड्डी रोग, दंत रोग, चर्म रोग आदि| इन सभी तथा अन्य OPD को बहुत से भागों में बांटा गया है|  यहां पर किसी भी मरीज की औपचारिकता को पूर्ण करने के बाद उस मरीज को उसकी बीमारी से संबंधित विभाग में इलाज के लिए भर्ती किया जाता है| ओपीडी की सुविधा आप को सभी अस्पतालों में आसानी से मिल जाती है



OPD में Outpatient Clinic होता है| इस क्लीनिक में डॉक्टर तथा नर्स मौजूद रहते हैं| ओपीडी में सभी प्रकार के बाहरी मरीजों के इलाज के लिए सभी आवश्यक चिकित्सा उपचार सेवाएं उपलब्ध होती ह| इसमें आपको Diagnostic Test सुविधा मरीज के किसी भी प्रकार की जांच की सुविधा तथा इसमें आपको छोटी शल्य चिकित्सा की सुविधा प्राप्त होती है|

ओपीडी में आपको X- Ray सुविधा, Diagnostic Test, प्रयोगशाला, Medical Record, कार्यालय तथा Pharmacy आदि| सभी के अलग-अलग कक्ष होते हैं|

OPD Full Form

OPD Full Form ओपीडी के बारे में अन्य सभी जानकारी जानने के साथ-साथ आपको OPD की फुल फॉर्म की जानकारी भी होनी चाहिए| OPD फुल फॉर्म क्या है| या इसका पूरा नाम क्या है| यह हम आपको बताने वाले हैं|

  • O – Out
  • P – Patient
  • D – Department
ये भी पढ़े – डीएनए क्या है- What Is DNA in hindi
ये भी पढ़े – Doctor Kaise Bane

ओपीडी कितना महत्वपूर्ण होता है

  • ओपीडी मरीजों के लिए बहुत महत्वपूर्ण तथा मददगार होता है|
  • मरीज की हालत का ओपीडी कक्ष में आने के बाद ही पता लगाया जाता है|
  • ओपीडी कक्ष मै मरीज को देखने के बाद ही उसकी हालत के अनुसार ही किसी अस्पताल में भर्ती कराया जाता है| या फिर घर भेजा जाता है|
  • ओपीडी कक्ष को ग्राउंड फ्लोर पर अधिकतर इसलिए बनवाया जाता है| ताकि मरीज को अस्पताल लाने ले जाने में आसानी हो|
  • वह मरीज जिनकी हालत अधिक गंभीर होती है| वह ओपीडी से इलाज लेकर घर जा सकते हैं|
OPD Full Form

ओपीडी में क्या सुविधाएं होती है

ओपीडी में कई विभागों और कक्ष होते हैं जो अलग-अलग कार्य करते हैं जैसे-

डॉ. परामर्श कक्ष

यहां पर डॉक्टर मरीज से उसकी बीमारी के बारे में पूछते हैं और उसकी स्थिति को समझते हैं यहां पर डॉक्टर रोगी को उचित परामर्श देते हैं|

परीक्षण कक्ष

यहां पर मरीजों का परीक्षण और जांच होती है जिससे मरीज की बीमारी का पता लगाया जाता है इसी के बाद किसी मरीज का इलाज शुरू होता है|

नैदानिक कक्ष

इस कक्ष में मरीजों के सैंपल इकट्ठे किए जाते हैं इसमें माइक्रोबायोलॉजी, पैथोलॉजी, रेडियोलॉजी आदि की सुविधाएं होती है|

दवाखाना

दवाखाने में मरीजों को उसकी बीमारी के अनुसार दवाइयां उपलब्ध कराई जाती है|

ओपीडी कितना महत्वपूर्ण है

  • ओपीडी मरीजों के लिए बहुत महत्वपूर्ण और मददगार साबित होता है|
  • OPD में पेशंट के आने के बाद ही यह डिसीजन लिया जाता है कि पेशेंट की हालत कैसी हैं|
  • ओपीडी के बाद ही इस बात को जाना जाता है कि मरीज को भर्ती करना है या ऊपर डी के इलाज के बाद ही मरीज को घर जाने देना|
  • यहां पर जो मरीज सबसे अधिक गंभीर हालत में होता है उनको आगे की प्रक्रिया या इलाज के लिए भेजा जाता है|
  • किसी भी अस्पताल में कितने मरीजों का इलाज किया जा सकता है इसकी एक सीमा निर्धारित की गई है|
  • वहां ओपीडी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि बहुत से ऐसे मरीज होते हैं जिनकी हालत अधिक गंभीर नहीं होती हैं वह ओपीडी से ही इलाज करके घर वापस जा सकते हैं|

OPD तथा IPD में अंतर

        OPD        IPD
ओपीडी में केवल एक डॉक्टर विशेषज्ञ के साथ परामर्श की आवश्यकता होती है|आईपीडी में मरीज को भर्ती करने के बाद डॉक्टर विशेषज्ञ के आधार पर मरीज की चिकित्सा की स्थिति को तय किया जाता है|
OPD में वह मरीज जाते हैं| जिनको भर्ती होने की जरूरत नहीं होती है|IPD में वह मरीज जाते हैं| जिनकी हालत गंभीर होती है| तथा जिनको भर्ती होने की आवश्यकता होती है|
ओपीडी में मरीज को टेस्ट आदि के लिए ले जाया जाता है| इसलिए उनको भर्ती होने की इजाजत नहीं होती है|आईपीडी के मरीज गंभीर हालत में होते हैं| इसलिए उन्हें भर्ती होने की इजाजत होती है|
OPD में मरीज को अस्पताल लाया जा सकता है| लेकिन उसको भर्ती नहीं किया जा सकता|IPD में मरीज को इलाज के लिए लाया जाता है| तथा उसकी गंभीर हालत के अनुसार उसे भर्ती भी किया जा सकता है|

ये भी पढ़े – बीपी कैसे चेक करे
ये भी पढ़े – NEET Kya Hai

ओपीडी में रोगियों के प्रकार

बहुत से लोग ऐसे होते हैं| जिनको यह मालूमात नहीं होती है| कि ओपीडी में कितने प्रकार के रोगी होते हैं| हम आपको बता दें| कि ओपीडी में दो प्रकार के रोगी होते हैं|

पहला- इसमें वह रोगी आते हैं| जिनको अस्पताल तो लाया जाता है| लेकिन अस्पताल में भर्ती नहीं किया जाता है|

दूसरा- इसमें रोगी को अस्पताल लाया जाता है| तथा इसके साथ ही उसको इलाज के लिए भर्ती किया जा सकता है|

ओपीडी में क्या होता है

यदि आप यह जानना चाहते हैं| कि ओपीडी में क्या होता है- तो आपको बता दें कि OPD में बहुत से कार्य होते हैं| जैसे- किसी भी प्रकार की जांच कराना, चेकअप कराना, बिल पेमेंट, मरीज की देखभाल, प्रयोगशाला, डायग्नोस्टिक टेस्ट, फार्मेसी तथा लोगों को अस्पताल से जुड़ी जानकारी देना, या फिर डॉक्टर से जुड़ी सभी जानकारी देना यह सभी कार्य OPD में होते हैं| यह उन मरीजों की जांच और देखभाल करते हैं| जिन्हें अस्पताल में रखने की आवश्यकता नहीं होती है|

Conclusion – OPD Full Form

मित्रों आज हमने आपको ओपीडी से जुड़ी सभी जानकारी दी| OPD क्या होता है, इसकी OPD Full Form| ओपीडी के प्रकार, ओपीडी और आईपीडी में क्या अंतर है| तथा ओपीडी कितना महत्वपूर्ण है| यह सभी हमने आपको इस लेख में बताया उम्मीद है| कि आपको यह सभी जानकारी पसंद आई होगी यदि आपको हमारे द्वारा दी गई सभी जानकारी पसंद आई हो तो इस लेख को अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें| और अभी भी आपके दिमाग में OPD को लेकर कोई सवाल है| तो हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं|

Leave a Comment